City Trends

by Vibha #DepressionIsReal #poetry

Advertisements

एक कलश भर इंसान

एक कलश भर राख बस इतना ही इंसान रह जाता है, जिसे रोज़ हम भूल जाते थे वह अब खुद ब खुद याद आता है।   उसके रहते जीवन संघर्ष हमने कभी किया नहीं, अब संघर्ष है जीवन में तो वो साथ हमारे रहा नहीं।   जीवन अमृत उस हाथ से चख हमने पल-पल जीना... Continue Reading →

Fragile

bolts of lightning  crack into the  grey sky thunderous echoes  shatter the  silent night a moment of life flickers and then  is laid to rest life in a metaphor proves nothing at our behest fragile all that lives fragile  until death...    

Powered by WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: