चुप्पी

कभी उनकी आँखों में बसते थे हम, बातों का वो मंज़र रूहानी था। नज़रों में आज भी चमक रहती हैं उनकी बस मेरे अल्फाज़ कमबख्त फ़ोन चुरा ले गया। यूँ तो दिलबर की चुप्पी से शायर डरा नहीं करते, आँखों की जुबां भी समझना आता हैं हमको। आँखें पढ़ने की गुस्ताखी कमबख्त दिल करे कैसे... Continue Reading →

Advertisements

The Mysterious Bowl – Devansh

(Thirteen year old, Devansh Gaur, doesn't agree that he has good ideas for stories and like every teenager today he is a gadget geek. So when I restricted the writing T&C to non use of any evil electronic media, he was not very happy. But I was more happy than surprised when he came up... Continue Reading →

लेखक हूँ, पर क्या लिखूँ ?

यूँ ही कुछ लिख लेता हूँ, लोग कहते हैं की कहानी अच्छी कह देता हूँ । मंज़र अलग से नज़र आते है मुझे , शब्दों का रुख मोड़ स्याह कलम से खेलता हूँ। पर डर लगता हैं आजकल कलम को मेरी, शब्दों के मेरे खेल से कहीं अनवर बुरा ना मान जाये? अभी कुछ दिन... Continue Reading →

It rained today. And I really wanted it to rain. Sometimes one needs to wash away the suffocation, literally. The irony of being an adult is that you are supposed to sort your own issues and whoever is there to advise really has no clue what turmoil you are going through. For all those issues... Continue Reading →

Powered by WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: