कुछ अनकही सी ज़िन्दगी

आँखों की चमक में छिपा एक सैलाब है, तुम्हारी तो हँसी में भी एक इंकलाब हैं, रात ग़मों की स्याही से और गहराई उसके मंसूबों को नाकाम करती तुम्हारी मुस्कान - एक पोशीदा नक़ाब है...

Advertisements

Write me down!

Writing is what inspires me to live, Or living is what inspires to write. I know not how the pen became my life, But I write to survive. Some time alone is mine to read, Or scribble a little on the blank sheet, Mornings are my time to breathe, I write before I cook & …

Continue reading Write me down!